Advertisements

देवर ने तोड़ा विधवा भाभी का विश्वास, रात के अँधेरे का फायदा उठा भाभी के साथ कर दिया ये काण्ड

Prev1 of 3
Use your ← → (arrow) keys to browse

भारत में आज भी कई लोग बहुत सी कुप्रथाओं को इस कदर सजो कर अपने पास रखते है कि मानो कई बार वो प्रथाएँ अपनों से बढकर हो जाती हैl ऐसी ही एक कुप्रथा का उदाहरण हमारे सामने हाल ही में घटी एक घटना से सामने आयाl जानकारी के लिए बता दें कि बड़ा चाँदगंज अलीगंज निवासी शिवकुमार मिश्रा नाम के एक पुजारी ने अपनी एकलौती बेटी बंदना की शादी 20 जून 2009 में अरसोलिया हरदोई निवासी रामदेव द्विवेदी के बेटे मिथलेश द्विवेदी के साथ बड़ी ही धूमधाम से की थीl

बंदना का पति मिथलेश एक निजी कम्पनी में काम करता था और वह हसनगंज खदरा स्थित घर में अपने परिवार के साथ रह रहा थाl शादी के बाद पति पत्नी में शुरुआत में तो सब सही चल रहा था लेकिन फिर बाद में मानो दोनों की गिरस्ती को किसी की नजर लग गईl और पति काम उम्र में ही पत्नी को अकेला छोड़ दुनिया से हमेशा से अलविदा कर चला गयाl

 

पति की मौत के बाद मानो बंदना पर दुखो का पहाड़ टूट पड़ाl पति के गुजरने के कुछ समय बाद ही सास, ससुर ने विधवा भाभी को देवर से शादी करने के लिए उसके ऊपर दबाव डालना शुरू कर दियाl  इतना ही नहीं शादी के नाम पर उसके पिता से दहेज भी लिया और उसके बाद विधवा को टरकाने का सिलसिला शुरू हो गयाl महिला के पिता पर भी जब जल्द शादी करवाने का दबाव डाला तो कुछ विवाद हुआl जिसकी आड़ में ससुरालवाले देवर से शादी कराने से मुकर गये और पीड़िता के साथ मार-पीट कर उसे घर से भी भगा दियाl फिलहाल अभी मामला अलीगंज पुलिस थाने में दर्ज है और मामले की जांच हो रही हैl

पुलिस जांच में बंदना ने बताया कि दिसम्बर साल 2010 में उसके पति मिथलेश की लम्बी बीमारी के बाद मौत हो गयी थीl पति की मौत के दो महीने बाद ही बंदना को एक पुत्र पैदा हुआl बंदना ने आरोप लगाते हुए बताया कि पहले तो पुलिस भी काफी दिनों तक मुकदमा लिखने में आना-कानी करती रही और बाद में समुचित धाराओं में मुकदमा नही लिखाl अगर मुकदमा दर्ज हुआ भी तो वो बहुत हल्की धाराओं में हुआl
Prev1 of 3
Use your ← → (arrow) keys to browse

Advertisements

Loading...

Comments

comments